Pabbi-Anti-Terror 2021: India, Pakistan and China Combined Anti-Terrorism Exercise

The decision to hold the joint exercise 'Pabbi-Antiterror-2021' was announced during the 36th meeting of the Council of the Regional Anti-Terrorist Structure.

Pabbi-Anti-Terror 2021

 The decision to hold a joint exercise 'Pabbi-Anti-Terror 2021' was announced during the 36th meeting of the Regional Anti-Terrorism Structures Council (RATS) held in Tashkent, Uzbekistan.


This manoeuvre has been named 'Pabbi-Anti Terror 2021'. This meeting, held on 18 March in the delegates of SCO member countries, approved the draft of a program to collectively run a program to fight terrorism, separatism and insurgency from 2022 to 2024.


“Decisions were taken to improve cooperation between competent authorities of SCO member states to identify and suppress channels that finance terrorist activities. Representatives of competent officials of India, Kazakhstan, China, Kyrgyz Republic, Pakistan, Russia, Tajikistan, Uzbekistan and RATS Executive Committee attended the meeting.


According to a report by China's state-run news agency Xinhua, RTS has said in its statement that "under this campaign, it has been decided to identify cooperation and to close cooperation between SCO countries for the purpose of identifying and closing them".


Click Here Topic Wise Study 


(संयुक्त अभ्यास 'पाब्बी-एंटी-टेरर 2021 (Pabbi-Anti-Terror 2021)’ आयोजित करने का निर्णय उज्बेकिस्तान के ताशकंद में आयोजित क्षेत्रीय आतंकवाद विरोधी संरचना परिषद (RATS) की 36 वीं बैठक के दौरान घोषित किया गया था|) 


(इस युद्धाभ्यास को 'पब्बी-एंटी टेरर 2021' नाम दिया गया है| एससीओ के सदस्य देशों के डेलिगेट्स में 18 मार्च को हुई इस बैठक में आतंकवाद, अलगाववाग और उग्रवाद से लड़ने के लिए 2022 ले 2024 तक सामूहिक तौर पर एक कार्यक्रम चलाने के मसौदे को मंजूरी दी है|)

 

(“आतंकवादी गतिविधियों को वित्तपोषित करने वाले चैनलों की पहचान करने और दबाने के लिए SCO सदस्य राज्यों के सक्षम अधिकारियों के बीच सहयोग में सुधार करने के निर्णय लिए गए| बैठक में भारत, कजाकिस्तान, चीन, किर्गिज गणराज्य, पाकिस्तान, रूस, तजाकिस्तान, उज्बेकिस्तान और RATS कार्यकारी समिति के सक्षम अधिकारियों के प्रतिनिधि शामिल हुए थे|)  


(चीन की सरकारी न्यूज एजेंसी शिन्हुआ की रिपोर्ट के मुताबिक आरटीएस ने अपने बयान में कहा है कि 'इस अभियान के तहत टेरेरिस्ट फंडिंग चैनल्स की पहचान करना और उन्हें बंद करने के मकसद से एससीओ देशों के बीच सहयोग बढ़ाने पर फैसला लिया गया है'|)


Find More Defence News

Post a Comment

Thanks For Visiting...Keep learning...!

Previous Post Next Post