Bihar Becomes First State to Bring Ethanol Policy

 Bihar produces around 12 crore liters of ethanol and is in the fifth position in ethanol production in the country.

Bihar becomes first state to bring ethanol policy

Recently, the Bihar cabinet approved the Ethanol Production Promotion Policy, 2021, which became the first Indian state to introduce an ethanol promotion policy.


This policy allows the extraction of ethanol, which was limited to sugarcane, as well as the surplus quantity of corn. The new policy will allow ethanol production in Bihar, which will be derived from all feedstocks allowed by the National Policy on Biofuels, 2018, and subsequently by the National Biofuels Coordination Committee.


The Legislative Assembly was informed of the cabinet decision by Deputy Chief Minister Renu Devi as Industries Minister Shahnawaz Hussain was in the fray in West Bengal for campaigning. As of now, the Government of India has allowed the production of B-heavy jaggery, C-heavy jaggery, grains for human consumption, sugarcane juice, sugar, sugar syrup, surplus rice, and ethanol for maize.


The Ethanol Production Promotion Policy of Bihar, 2021, will promote new standalone ethanol manufacturing units by providing additional capital subsidy up to a maximum of 5 crores at 15% of the cost of plant and machinery. Which provides an additional subsidy for special category investors like SC, ST, EBC, women, disabled people, war widows, acid attack victims, and third gender entrepreneurs.


Click Here Topic Wise Study 


(हाल ही में, बिहार कैबिनेट ने इथेनॉल उत्पादन संवर्धन नीति, 2021 को मंजूरी दे दी है, जो इथेनॉल प्रमोशन नीति लाने वाला पहला भारतीय राज्य बन गया है |) 


(इस नीति में इथेनॉल के निष्कर्षण की अनुमति देती है, जो गन्ने तक, साथ ही मक्का की अधिशेष मात्रा से भी सीमित थी|  नई नीति बिहार में इथेनॉल उत्पादन की अनुमति देगी, जो जैव ईंधन, 2018 और उसके बाद राष्ट्रीय जैव ईंधन समन्वय समिति द्वारा राष्ट्रीय नीति द्वारा अनुमत सभी फीडस्टॉक्स से प्राप्त होगी |)


(विधानसभा को उपमुख्यमंत्री रेणु देवी द्वारा कैबिनेट के फैसले की जानकारी दी गई क्योंकि उद्योग मंत्री शाहनवाज हुसैन चुनाव प्रचार के लिए पश्चिम बंगाल में चुनाव मैदान में थे | अभी तक, भारत सरकार ने B-भारी गुड़, C-हैवी गुड़, मानव उपभोग के लिए अनाज, गन्ने के रस, चीनी, चीनी सिरप, अधिशेष चावल और मक्का के लिए इथेनॉल उत्पादन की अनुमति दी है|) 


(बिहार की इथेनॉल उत्पादन संवर्धन नीति, 2021, संयंत्र और मशीनरी की लागत का 15% पर अधिकतम 5 करोड़ तक की अतिरिक्त पूंजी सब्सिडी प्रदान करके नई स्टैंडअलोन इथेनॉल विनिर्माण इकाइयों को बढ़ावा  देगी | जो की एससी, एसटी, ईबीसी, महिलाओं, दिव्यांग जन, युद्ध विधवाओं, एसिड अटैक पीड़ितों और थर्ड जेंडर उद्यमियों जैसे विशेष वर्ग के निवेशकों के लिए एक अतिरिक्त सब्सिडी प्रदान करती है|)


Find More State News 

Post a Comment

Thanks For Visiting...Keep learning...!

Previous Post Next Post