Gandhi Jayanti 2021: Know the history, importance and significance

 Gandhi Jayanti 2021: As a mark of respect to the leader, the day is celebrated with prayer services and cultural events in schools, colleges, and even government institutions.

                                                                                    
Gandhi Jayanti 2021: Know the history, importance and significance

                            

Gandhi Jayanti 2021: Every year on 2 October, the birth anniversary of Mahatma Gandhi is celebrated in the country. Like Independence Day and Republic Day, this day has been given the status of a national festival. Born on 2 October 1869 in Porbandar, Gujarat, Mahatma Gandhi forced the British to leave India on the basis of the principle of truth and non-violence.


Gandhiji became active in the freedom struggle of India in 1915. Gandhiji's role in the Indian independence movement was very important. His non-violent policies and moral bases made more people join the movement. He emphasized treating all religions as equal, respecting all languages, giving equal status to men and women and bridging the age-long gap between Dalits and non-Dalits.


International Day of Non-Violence is also celebrated every year on 2 October in honour of his thoughts. Mahatma Gandhi was first addressed by Subhash Chandra Bose as 'Father of the Nation'. On 4 June 1944, while broadcasting a message from Singapore Radio, Mahatma Gandhi was called 'Father of the Nation'.


Click Here Topic Wise Study


Gandhi Jayanti 2021 : प्रति वर्ष देश में 2 अक्टूबर को महात्मा गांधी की जयंती मनाई जाती है। स्वतंत्रता दिवस और गणतंत्र दिवस की तरह इस दिन राष्ट्रीय पर्व का दर्जा दिया गया है| 2 अक्टूबर 1869 को गुजरात के पोरबंदर में जन्मे महात्मा गांधी ने सत्य और अहिंसा के सिद्धांत के दम पर अंग्रेजों को भारत छोड़ने पर मजबूर किया था |


गांधी जी भारत की आजादी की लड़ाई में 1915 से सक्रिय हुए। भारतीय स्वतंत्रता आंदोलन में गांधी जी भूमिका बहुत महत्वपूर्ण थी| उनकी अहिंसक नीतियों और नैतिक आधारों ने और अधिक लोगों को आंदोलन से जोड़ा| उन्होंने सभी धर्मों को एकसमान मानने, सभी भाषाओं का सम्मान करने, पुरुषों और महिलाओं को बराबर का दर्जा देने और दलितों-गैर दलितों के बीच की युगों से चली आ रही खाई को पाटने पर जोर दिया था|


उन्हीं के विचारों के सम्मान में 2 अक्टूबर को हर साल अंतर्राष्ट्रीय अहिंसा दिवस भी मनाया जाता है। महात्मा गांधी को पहली बार सुभाष चंद्र बोस ने 'राष्ट्रपिता' कहकर संबोधित किया था। 4 जून 1944 को सिंगापुर रेडिया से एक संदेश प्रसारित करते हुए 'राष्ट्रपिता' महात्मा गांधी कहा था।


Find More Important Days News


Post a Comment

Thanks For Visiting...Keep learning...!

Previous Post Next Post