Ladakh: Black neck crane declared as state bird and snow leopard as state animal

Lt Governor of Ladakh UT RK Mathur has been instructed to give recognition to Snow Leopard and Black Neck Crane from the day of notification.


Ladakh: Black neck crane declared as state bird and snow leopard as state animal


Nearly two years after the reorganization of the state of Jammu and Kashmir, the Ladakh administration has declared the snow leopard as the state animal while the black-necked stork as the state bird. UT's Forest, Ecology and Environment notification has been issued in this regard. In which, quoting Ladakh's Lieutenant Governor RK Mathur, instructions have been given to give recognition to Snow Leopard and Black-necked Crane (Black Neck Crane) from the day of notification.


Black neck crane: Black neck crane was also the state bird of old Jammu and Kashmir. This bird is found only in Ladakh in the country. This bird is about 1.35 meters high, while its wingspan is about two to two and a half meters. Its weight ranges from 6 to 8 kg. It has a bright red colored crown on its head. Mostly this bird is seen in pairs. The folk dance of Ladakh is influenced by their courtship dance.


Snow Leopard: The mountainous region of the western and eastern Himalayas of India is home to snow leopards. They are mainly found in Ladakh, Jammu and Kashmir, Himachal Pradesh, Uttarakhand, Sikkim and Arunachal Pradesh. The state animal of old Jammu and Kashmir was Hangul. Snow leopards often extinct in Ladakh roam freely. In the icy desert Ladakh, they are called by the name of 'Shan'.


Click Here Topic Wise Study


जम्मू और कश्मीर राज्य के पुनर्गठन के लगभग दो साल बाद लद्दाख प्रशासन ने हिम तेंदुए को राज्य पशु जबकि काली गर्दन वाले सारस को राज्य पक्षी घोषित किया है| इस संबंध में यूटी के वन, इकोलॉजी और पर्यावरण अधिसूचना जारी की है| जिसमें लद्दाख के उपराज्यपाल आरके माथुर के हवाले से हिम तेंदुए (स्नो लेपर्ड) व काली गर्दन वाले सारस (ब्लैक नेक क्रेन) को अधिसूचना जारी होने के दिन से मान्यता दिए जाने के निर्देश दिए गए हैं|


ब्लैक नेक क्रेन: काली गर्दन वाला सारस पुराने जम्मू-कश्मीर का भी स्टेट बर्ड था| यह पक्षी देश में सिर्फ लद्दाख में ही पाया जाता है| यह पंछी करीब 1.35 मीटर ऊंचा होता है जबकि इसके पंखों का फैलाव करीब दो से ढाई मीटर तक होता है| इसका वजन 6 से 8 किलोग्राम तक होता है| इसके सिर पर चमकदार लाल रंग का ताज होता है| ज़्यादातर यह पक्षी जोड़ों में देखा जाता है| इनके प्रेमालाप नृत्य से ही लद्दाख का लोक नृत्य प्रभावित है|


स्नो लेपर्ड: भारत का पश्चिमी और पूर्वी हिमालय का पहाड़ी इलाका हिम तेंदुओं का निवास स्थान है| वे मुख्य रूप से लद्दाख, जम्मू और कश्मीर, हिमाचल प्रदेश, उत्तराखंड, सिक्किम और अरुणाचल प्रदेश में पाए जाते हैं| पुराने जम्मू-कश्मीर का राज्य पशु हंगुल था|  लद्दाख में विलुप्त प्राय हिम तेंदुए बेखौफ घूमते हैं| बर्फीले रेगिस्तान लद्दाख में इन्हें ‘शान’ के नाम से पुकारा जाता है|


Find More State News

Post a Comment

Thanks For Visiting...Keep learning...!

Previous Post Next Post