How dangerous is the Lambda variant of the corona virus

 This strain was first identified in Peru in December 2020. Lambda is the major type of Covid-19 in the South American country. In this, 81 per cent of the cases were of this variant.

How dangerous is the Lambda variant of the corona virus


The 'Lambda' variant of the coronavirus is becoming a cause of concern all over the world. Another deadly variant of the coronavirus 'Lambda' from the Latin American country of Peru has started spreading rapidly in the world. So far, cases of this variant have been reported in 27 countries.


This new variant, known as C.37, was announced as the 'Variant of Interest' on 14 June 2021. According to the Health Ministry of Malaysia, it is more lethal than the delta variant. So far 6 cases of Lambda have been found in the UK, and all of them had returned from overseas travel.


So far, not a single case has been reported in India of the C.37 strain of coronavirus, which is called the 'Lambda variant'. According to experts, the opening of international air travel is increasing the risk of many new variants including 'Lambda' reaching India.


This strain was first identified in Peru in December 2020. 81 per cent of the cases in Peru were found with this variant. Lambda variants are usually associated with high transmission efficiency and resistance to antibodies, but health experts have said that more data will be needed to firmly establish this fact.


Click Here Topic Wise Study 


(कोरोना वायरस का 'लांब्‍डा' (Lambda) वेरिएंट दुनिया भर के लिए चिंता का कारण बनता जा रहा है| लैटिन अमेरिकी देश पेरू से कोरोना वायरस का एक और घातक वेरिएंट ‘लांब्‍डा’ बड़ी तेजी से दुनिया में फैलना शुरू हो गया है| अब तक 27 देशों में इस वेरिएंट के मामले सामने आए हैं|)


(इस नए वेरिएंट को C.37 नाम से जाना जाता है जिसे 14 जून 2021 को 'वेरिएंट ऑफ इंटरेस्‍ट' घोषित किया गया था| मलेशिया का स्‍वास्‍थ्‍य मंत्रालय के अनुसार, यह डेल्‍टा वेरिएंट से भी ज्‍यादा घातक है| यूके में अब तक लांब्‍डा के 6 मामले मिले है, और वो सभी विदेश यात्रा से लौटे थे|)


(अभी तक कोरोना वायरस के C.37 स्ट्रेन जिसे 'लांब्‍डा' वैरिएंट (Lambda variant) कहा जाता है, का भारत में एक भी मामला सामने नहीं आया है| एक्‍सपर्ट्स के अनुसार, अंतरराष्‍ट्रीय एयर ट्रेवल खोलने से 'लांब्‍डा' समेत कई नए वेरिएंट्स के भारत पहुंचने का खतरा बड़ रहा है|)


(इस स्ट्रेन की पहचान सबसे पहले पेरू में दिसंबर 2020 में हुई थी | पेरू में 81 प्रतिशत मामले इस वेरिएंट के मिले थे| लांब्‍डा वेरिएंट आमतौर पर हाई ट्रांसमिशन इफिशिएंसी और एंटीबॉडी के रेजिस्टेंट से जुड़ा होता है, लेकिन हेल्थ एक्सपर्ट्स ने कहा है कि इस तथ्य को मजबूती से स्थापित करने के लिए अधिक डेटा की जरूरत होगी|)


Find More Health News

Post a Comment

Thanks For Visiting...Keep learning...!

Previous Post Next Post