Supreme Court Says A person over 18 years of age is free to choose religion on his own

The Supreme Court said that people over the age of 18 in the country have the right to choose their religion and the constitution of the country gives them this right.


Supreme Court Says A person over 18 years of age is free to choose religion on his own

Recently, the Supreme Court refused to hear the plea seeking direction to the Center to control black magic and forced conversions, stating that a person over 18 years of age is free to choose his religion.


The Supreme Court has dismissed the petition filed against the conversion illegally. The court refused to hear the petition on April 9, saying that a person over the age of 18 years is free to choose his religion.


A bench of Justices RF Nariman, Justice BR Gavai, and Justice Hrishikesh Roy told senior advocate Sankaranarayan, appearing for petitioner advocate Ashwini Upadhyay, what kind of petition it is under Article 32. For this, we will impose a heavy penalty on you. Would you argue at your own risk?


 It was said in this petition that the poor, uneducated people have been converted to religion by showing fear of black magic and superstition. On this, the Supreme Court said that this petition has been filed for the purpose of dissemination.


Click Here Topic Wise Study 


(हाल ही में, सुप्रीम कोर्ट ने काला जादू और जबरन धर्मांतरण को नियंत्रित करने हेतु केंद्र को निर्देश देने के अनुरोध संबंधी याचिका पर सुनवाई से इनकार करते हुए कहा कि 18 वर्ष से अधिक उम्र का व्यक्ति अपना धर्म चुनने के लिए स्वतंत्र है|) 


(सुप्रीम कोर्ट ने अवैध तरीके से धर्म परिवर्तन के खिलाफ दायर की गई याचिका को खारिज कर दिया है. कोर्ट ने याचिका पर सुनवाई से 09 अप्रैल को इनकार करते हुए कहा कि 18 वर्ष से अधिक उम्र का व्यक्ति अपना धर्म चुनने हेतु स्वतंत्र है|) 


(जस्टिस आर एफ नरीमन, जस्टिस बी आर गवई और जस्टिस ऋषिकेष रॉय की पीठ ने याचिकाकर्ता वकील अश्विनी उपाध्याय की ओर से पेश हुए वरिष्ठ अधिवक्ता शंकरनारायण से कहा कि अनुच्छेद 32 के तहत यह किस तरह की याचिका है| इसके लिए हम आप पर भारी जुर्माना लगाएंगे| क्या आप अपने जोखिम पर बहस करेंगे?) 


(इस याचिका में कहा गया था कि गरीब, अशिक्षित लोगों का काला जादू और अंधविश्वास का डर दिखाकर धर्म परिवर्तन कराया है| इस पर सुप्रीम कोर्ट ने कहा कि ये याचिका प्रसार के उद्देश्य से दाखिल की गई है|) 


Find More National News

Post a Comment

Thanks For Visiting...Keep learning...!

Previous Post Next Post