A Book Titled The Population Myth : Islam, Family Planning and Politics in India will be Launched

 A Book Titled The Population Myth : Islam, Family Planning and Politics in India will be Launched

A Book Titled The Population Myth : Islam, Family Planning and Politics in India will be Launched


Former Chief Election Commissioner (CEC) SY Qureshi has brought out his book "The Population Myth: Islam, Family Planning and Politics in India" which will be released on February 15, 2021. It will be published by Harper Collins India.


SY Qureshi served as the Chief Election Commissioner from July 30, 2010 to June 10, 2012. He did many electoral reforms such as a voter education division, expenditure monitoring division, India International Institute of Democracy and Election Management and also launched National Voters' Day.


This book evaluates India's demography from a religious point of view and seeks to debunk two basic myths that 'Islam is against family planning' and 'Muslim growth rate' is associated with seizing political power.


In this book, a detailed analysis of 'Muslim growth rate' has been done, citing population data and national and international reports. Also, this book examines the important and urgent question of politicization of demography in India.


Click Here Topic Wise Study


(पूर्व मुख्य चुनाव आयुक्त (CEC) एस वाई कुरैशी अपनी किताब "द पॉपुलेशन मिथ: इस्लाम, फैमिली प्लानिंग एंड पॉलिटिक्स इन इंडिया" लेकर आए हैं जो 15 फरवरी, 2021 को जारी होगी। इसे हार्पर कॉलिन्स इंडिया द्वारा प्रकाशित किया जाएगा।)


(एस वाई कुरैशी ने 30 जुलाई, 2010 से 10 जून, 2012 तक मुख्य चुनाव आयुक्त के पद पर कार्य किया था | इन्होने कई चुनावी सुधार कार्य किए, जैसे कि एक मतदाता शिक्षा प्रभाग, व्यय निगरानी प्रभाग, इंडिया इंटरनेशनल इंस्टीट्यूट ऑफ डेमोक्रेसी और इलेक्शन मैनेजमेंट तथा राष्ट्रीय मतदाता दिवस भी लॉन्च किया था |)


(यह पुस्तक धार्मिक दृष्टिकोण से भारत की जनसांख्यिकी का मूल्यांकन करती है, ओर इसमे दो बुनियादी मिथकों को ध्वस्त करने का प्रयास है कि 'इस्लाम परिवार नियोजन के खिलाफ है' और 'मुस्लिम विकास दर' राजनीतिक शक्ति पर कब्जा करने से जुड़ी है।)


(इस पुस्तक मे जनसंख्या डेटा तथा राष्ट्रीय और अंतर्राष्ट्रीय रिपोर्टों के हवाले से 'मुस्लिम विकास दर' का विस्तृत विश्लेषण किया गया है। साथ ही यह पुस्तक भारत में जनसांख्यिकी के राजनीतिकरण के महत्वपूर्ण और तत्काल प्रश्न की जांच करती है।)


 Find More Books And Authors News

Post a Comment

Thanks For Visiting...Keep learning...!

Previous Post Next Post