Tejas MK-1 FOC fighter aircraft included in Air Force Squadron Flying Bullets

वायु सेना के स्क्वाड्रन "Flying Bullets" में शामिल किया गया तेजस एमके -1 FOC लड़ाकू विमान

iaf,tejas,fighter, mk-1, Indian airforce, flying bullets, currentaffairs2020
The first Light Combat Aircraft Tejas Mk-1 was formally inducted at a function held at the Air Force Station, Sultan, near Coimbatore.


The Tejas Mk-1 FOC aircraft at the Indian Air Force station Sulur recently included the recently revived No. 18 Squadron, also known as the "Flying Bullet". The Tejas MK-1 FOC is a single engine, light weight, highly agile and all-weather, effective and multi-role fighter aircraft. It has air-to-air refueling capability and is also the first squadron of the Indian Air Force to include such aircraft.
(भारतीय वायु सेना के स्टेशन सुलूर में तेजस एमके-1 FOC विमान को हाल ही में पुनर्जीवित किए गए नंबर 18 स्‍क्‍वैड्रन, जिसे "फ्लाइंग बुलेट" के नाम से भी जाना जाता है, जो हाल ही में शामिल किया गया है। तेजस एमके -1 एफओसी एक एकल इंजन, हल्के वजन, बेहद चुस्त और सभी मौसम में प्रभावशाली व बहु-भूमिका निभाने वाला लड़ाकू विमान है। यह हवा से हवा में ईंधन भरने की क्षमता रखता है और साथ ही, इस तरह के विमान को शामिल करने वाला भारतीय वायुसेना का यह पहला स्क्वैड्रन है।)


Air Force Squadron was operated by Chief Air Chief Marshal RKS Bhadauria. This squadron comes under the operational control of the Southern Air Command, which is responsible for integrating the squadron into the Indian Air Force's concept of operations. The Tejas MK-1 FOC is also an important milestone in the country's indigenous fighter aircraft program and also an important step towards promoting the 'Make in India' initiative.
(वायु सेना इस स्क्वैड्रन का संचालन  प्रमुख एयर चीफ मार्शल आरकेएस भदौरिया ने किया। यह स्‍क्‍वैड्रन, दक्षिणी वायु कमान के परिचालन नियंत्रण में आता है, जो कि इस स्‍क्‍वैड्रन को भारतीय वायु सेना के परिचालन की अवधारणा में एकीकृत करने के लिए उत्तरदायी है। तेजस एमके -1 एफओसी देश के स्वदेशी लड़ाकू विमान कार्यक्रम में एक महत्वपूर्ण मील का पत्थर भी है और 'मेक इन इंडिया'  की पहल को भी बढ़ावा देने की दिशा में एक महत्वपूर्ण कदम भी है।)


Ek-Sarva Dharma Puja '(inter-faith prayer) was performed before the new fighter was inducted into the force. Prior to the ceremony, ACM Bhadoria flew on an early operational clearance (IOC) aircraft from the No. 45 Squadron D Flying Daggers'.
(नए लड़ाकू को बल में शामिल करने से पहले एक-सर्व धर्म पूजा ’(अंतर-विश्वास प्रार्थना) की गई थी। समारोह से पहले, एसीएम भदौरिया ने नंबर 45 स्क्वाड्रन D फ्लाइंग डैगर्स ’से एक प्रारंभिक परिचालन क्लीयरेंस (IOC) विमान पर एक उड़ान भरी।)


There is also an order for 83 LCA in the MK-1A configuration with four major and several minor upgrades which ACM Bhadauria called 'high priority' in a recent conversation with The Hindu. The Rs 38,000-crore deal is expected to be signed in the next three months.
(चार प्रमुख और कई छोटे उन्नयन के साथ एमके -1 ए कॉन्फ़िगरेशन में 83 एलसीए के लिए एक आदेश भी है जिसे एसीएम भदौरिया ने द हिंदू के साथ हालिया बातचीत में 'उच्च प्राथमिकता' कहा। लगभग 38,000 करोड़ रुपये के इस सौदे पर अगले तीन महीनों में हस्ताक्षर होने की उम्मीद है।)

Key Highlights - 

Chief of the Air Staff - Chief Marshal RKS Bhadauria
HQ of Indian Airforce - New Delhi

Post a Comment

Thanks For Visiting...Keep learning...!

Previous Post Next Post