Successful trial of Covid-19 vaccine discovered in US - Pitkovac

Successful testing of the US-discovered Kovid-19 vaccine, capable of producing enough antibodies to fight the virus - Pitkovac

Coronavirus vaccine in usa, corona virus, corona, coronavirus, covid-19, pittcovacc, covi-19 vaccine, novel corona virus, covid19, coronavirus vaccine, coronavirus in usa, corona symptoms, america news, coronavirus vaccine created in america, coronavirus vaccine pitcovac, coronavirus vaccine tested on rats, coronavirus vaccine in hindi, picovac corona vaccine, corona vaccine usa, पिटकोवैक वैक्सीन, कोरोना वैक्सीन का सफल परीक्षण, corona vaccine tested successfully, corona vaccine tested successfully on rat, corona death in india, coronavirus in world,
University of Pittsburgh School of Medicine researcher scientists have a potential vaccine targeting SARS-CoV-2. Pre-clinical research on mice reveal that the fingerprint-sized patch produces antibodies specific to the novel coronavirus at quantities thought to be sufficient for neutralizing the virus. Recently, when tested in mice, the experimental product known as PittCoVacc generated a surge of antibodies against SARS-CoV-2 within two weeks of the microneedle pick.


There is a war against Coronavirus all over the world including India and more than 1 million people are infected with it, while more than 50 thousand people have been killed so far. Steps like lockdown are being taken in most of the countries of the world and the entire business has collapsed. In such a situation, a good news has come from American scientists. They have succeeded in testing potential viruses on mice.
(कोरोनावायरस के खिलाफ भारत समेत पूरी दुनिया में जंग चल रही है और 10 लाख से ज्यादा लोग इससे संक्रमित हैं, जबकि अब तक 50 हजार से ज्यादा लोग मारे जा चुके हैं। दुनिया के अधिकांश देशों में लॉकडाउन जैसे कदम उठाए जा रहे हैं और सारा कारोबार चौपट हो चुका है। ऐसे में अमेरिकी वैज्ञानिकों की तरफ से एक अच्छी खबर आई है। उन्होंने चूहों पर संभावित वायरस परीक्षण में सफलता पाई है।)

Co-senior author Andrea Gambotto of the University of Pittsburgh's School of Medicine in the US claimed that we have SARS-2 in 2003 and MERS in 2014. Taking advantage of this, what we have discovered is that vaccine can prevent the infection of coronavirus strongly.
(अमेरिका में यूनिवर्सिटी ऑफ पीट्सबर्ग के स्कूल ऑफ मेडिसिन के सह-वरिष्ठ लेखक आंद्रिया गैम्बोटो ने दावा किया है कि हमारे पास 2003 में सार्स-2 और 2014 में एमईआरएस का अनुभव है। इसी का लाभ उठाते हुए हमने जो खोज की है उस वैक्सीन से कोरोनावायरस के संक्रमण को मजबूती से रोका जा सकता हैै।)

The complete information of the study on this has been published in the research journal e-Biomedicine. Researchers say their discovered vaccine is capable of producing sufficient amounts of antibodies to fight covid-19. Scientists have claimed that it will be able to neutralize the virus within two weeks of injecting the vaccine. Researchers have sought permission from the American Food and Drug Administration (FDA) for human testing after the test results showed encouraging results on mice.
(इस पर हुए अध्ययन की पूरी जानकारी शोध पत्रिका ई-बायोमेडिसिन में प्रकाशित हुई है। शोधकर्ताओं का कहना है कि उनकी खोजी गई वैक्सीन कोविड-19 से लड़ने के लिए पर्याप्त मात्रा में एंटीबॉडीज बनाने में सक्षम है। वैज्ञानिकों ने दावा किया है कि यह वैक्सीन इंजेक्ट करने के दो सप्ताह में ही वायरस को बेअसर करने में सक्षम होगी। चूहों पर परीक्षण के उत्साहजनक नतीजे मिलने के बाद शोधकर्ताओं ने अमेरिकी फूड एंड ड्रग एडमिनिस्ट्रेशन (एफडीए) से इसके मानव परीक्षण की अनुमति मांगी है।) 

Effective to neutralize virus for a year

Coronavirus is very similar to viruses called SARS and MARS. Scientists warn, since animals have not been tracked for very long, it is too early to say how much the immune system can fight coronaviruses. But this vaccine has proved unmatched on mice. It produced so many antibodies that it was able to neutralize the virus for at least a year.
(कोरोनावायरस काफी कुछ सार्स और एमएआरएस नामक वायरस से मिलता जुलता है। वैज्ञानिकों ने चेताया, चूंकि पशुओं को बहुत लंबे वक्त तक ट्रैक नहीं किया गया है, ऐसे में यह कहना जल्दबाजी होगा कि इम्यून सिस्टम कोरोनावायरस से कितना लड़ सकता है। लेकिन चूहों पर यह टीका बेजोड़ साबित हुआ है। इसने इतने एंटीबॉडीज पैदा किए कि कम से कम साल भर तक यह वायरस को बेअसर करने में सक्षम है।)

Vaccine Name Pitkovac

The researchers reported that two viruses (SARS and Mars) closely associated with Kovid-19 taught us about the spike protein that is important in generating immunity against the virus. This vaccine has been named Pitkovac by these researchers. It increases immunity by forming in laboratory pieces of viral protein as in the flu.
(शोधकर्ताओं ने बताया कि कोविड-19 के साथ करीब से जुड़े दो वायरस (सार्स और मर्स) ने हमें स्पाइक प्रोटीन के बारे में सिखाया जो वायरस के खिलाफ इम्यूनिटी पैदा करने में अहम है। इस वैक्सीन को इन शोधकर्ताओं ने पिटकोवैक नाम दिया है। यह वायरल प्रोटीन के प्रयोगशाला में निर्मित टुकड़ों से बनकर प्रतिरोधी क्षमता बढ़ाता है जैसा कि फ्लू में होता है।)


This is how it is used

Researchers used the new drug-giving technique to increase its effectiveness. They made a patch of 400 very fine needles equal to the tip of the finger that injects pieces of spike protein into the skin, where the resistance is strongest. This patch sticks like a plaster and the needles get inside the skin, which is made up of sugar and protein.
(शोधकर्ताओं ने इसका प्रभाव बढ़ाने के लिए दवा देने की नई तकनीक का उपयोग किया उन्होंने  उंगली की नोंक के बराबर के 400 बहुत महीन सुइयों का पैच बनाया  जो त्वचा में स्पाइक प्रोटीन के टुकड़े इंजेक्ट कर देती है, जहां प्रतिरोधी क्षमता सबसे मजबूत होती है। यह पैच प्लास्टर की तरह चिपकता है और सुइयां त्वचा के अंदर चली जाती है, जो शुगर और प्रोटीन से बनी होती हैं।)

Don't even hurt

The dermatologist Professor Lewis Fallow, who was involved in the research, said, "We adopted the same starch method used to apply the small pox vaccine." But it is a high tech version which is more effective and can be made from other patients and it does not have pain. Researchers said that this vaccine can be made on a large scale.
(शोध में शामिल रहे त्वचारोग विशेषज्ञ प्रोफेसर लुईस फालो ने बताया, हमने वही स्टार्च पद्धति अपनाई जो स्मॉल पॉक्स के टीके को लगाने के लिए उपयोग की जाती थी। लेकिन यह एक एक हाई टेक संस्करण हैं जो ज्यादा कारगर है और इसे दूसरे मरीजों से भी बनाया जा सकता है और इसमें दर्द भी नहीं होता। शोधकर्ताओं ने बताया कि इस वैक्सीन को बड़े पैमाने पर बनाया जा सकता है।)

Post a Comment

Thanks For Visiting...Keep learning...!

Previous Post Next Post